News

Explainer: What Is Kakhovka Dam Controversy Between Ukraine And Russia What Has Happened So Far? – Explainer: क्या है यूक्रेन में काखोवका बांध का विवाद और अब तक क्या हुआ?


दरअसल काखोवका बांध दक्षिणी यूक्रेन में है, ये रूसी और यूक्रेनी सेना को अलग करने वाली नीप्रो नदी पर सोवियत काल का एक विशाल बांध है, जो मंगलवार को टूट गया. यूक्रेन ने कहा कि रूस ने इसे नष्ट किया है, जबकि रूस ने कहा कि यूक्रेन ने क्रीमिया को पानी की आपूर्ति में कटौती करने और कमजोर होते जवाबी हमले से ध्यान भटकाने के लिए इसे तोड़ दिया.

काखोवका बांध: काखोवका पनबिजली संयंत्र का हिस्सा ये बांध 3.2 किमी (2 मील) लंबा और 30 मीटर (98 फीट) चौड़ा है. इसका निर्माण सोवियत नेता जोसेफ स्टालिन के समय शुरू हुआ था और निकिता ख्रुश्चेव के समय खत्म हुआ. बांध ने नीप्रो नदी को पाट दिया, जो यूक्रेन के दक्षिण में रूसी और यूक्रेनी सेना के बीच अग्रिम पंक्ति बनाती है.

यूक्रेन में बांध के तबाह होने से “कई मौतें होने की संभावना” : व्‍हाइट हाउस

सोवियत काल में 2,155 वर्ग किमी (832 वर्ग मील) कखोवका जलाशय के निर्माण ने लगभग 37,000 लोगों को अपने घरों से स्थानांतरित करने के लिए मजबूर किया. जलाशय में 18 क्यूबिक किलोमीटर (4.3 क्यूबिक मील) पानी है. ये मात्रा लगभग यू.एस. राज्य यूटा में ग्रेट साल्ट लेक के बराबर है.

जलाशय क्रीमिया प्रायद्वीप को भी पानी की आपूर्ति करता है, जिसे रूस ने 2014 में कब्जा कर लिया था, और ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु संयंत्र को भी, जो कि रूसी नियंत्रण में है.

यूक्रेन ने कहा- रूस जिम्मेदार है

यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने रूसी सेना पर काखोवका हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर स्टेशन को अंदर से उड़ाने का आरोप लगाया, और कहा कि रूस को ‘आतंकवादी हमले’ के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.

ज़ेलेंस्की ने वरिष्ठ अधिकारियों की एक आपातकालीन बैठक के बाद कहा, “02:50 पर, रूसी सैनिकों ने कखोव्स्काया एचपीपी की संरचनाओं का आंतरिक विस्फोट किया. इससे लगभग 80 बस्तियां बाढ़ के क्षेत्र में हैं.” एक यूक्रेनी सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि रूस का उद्देश्य यूक्रेन के सैनिकों को रूसी कब्जे वाली सेना पर हमला करने के लिए नीप्रो नदी पार करने से रोकना था.

यूक्रेन-रूस के बीच पानी बना युद्ध का हथियार, पढ़ें 5 बड़ी बातें

वहीं रूस ने कहा कि यूक्रेन ने क्रीमिया को पानी की आपूर्ति में कटौती करने और अपनी कमजोर होती जवाबी कार्रवाई से ध्यान हटाने के लिए बांध को तोड़ दिया. क्रेमलिन के प्रवक्ता पेसकोव ने संवाददाताओं से कहा, “हम स्पष्ट रूप से कह सकते हैं कि यूक्रेनी पक्ष द्वारा जान-बूझकर तोड़फोड़ की बात कर रहे हैं.”

इससे पहले रूस के कुछ अधिकारियों ने कहा था कि कोई हमला नहीं हुआ है. Zaporizhzhia में एक रूसी स्थापित अधिकारी, व्लादिमीर रोगोव ने कहा कि बांध पहले की क्षति और पानी के दबाव के कारण ढह गया. रूस की सरकारी समाचार एजेंसी TASS ने इसी आशय की एक रिपोर्ट प्रकाशित की.

42 हजार लोगों पर बाढ़ का खतरा

जलस्तर बढ़ने से हजारों लोगों के प्रभावित होने की संभावना है. मैक्सर ने कहा कि काला सागर पर खेरसॉन शहर के दक्षिण-पश्चिम में नोवा काखोवका और निप्रोवस्का खाड़ी के बीच 2,500 वर्ग किमी (965 वर्ग मील) से अधिक की उपग्रह छवियों ने दिखाया कि कई कस्बों और गांवों में बाढ़ आ गई है. यूक्रेनी अधिकारियों ने अनुमान लगाया कि बाढ़ से लगभग 42,000 लोगों को खतरा है, जो बुधवार को चरम पर होने की उम्मीद है, जिसमें रूस के कब्जे वाले हिस्सों में लगभग 25,000 लोग शामिल हैं. बाढ़ से 80 गांव चपेट में आ सकते हैं.

“अगले कुछ घंटे चिंताजनक..”, यूक्रेन में एक बड़े बांध के टूटने से आयी बाढ़ से भारी तबाही

क्रीमिया: बांध के नष्ट होने से सोवियत काल के उत्तरी क्रीमिया नहर के जलस्तर में कमी का खतरा है, जिसने पारंपरिक रूप से क्रीमिया को अपनी पानी की जरूरत का 85% आपूर्ति की है. उस पानी का अधिकांश हिस्सा कृषि के लिए उपयोग किया जाता है, कुछ काला सागर प्रायद्वीप के उद्योगों के लिए, और लगभग पांचवां हिस्सा पीने के पानी और अन्य सार्वजनिक जरूरतों के लिए उपयोग होता है.

परमाणु संयंत्र: यूरोप के सबसे बड़े ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु ऊर्जा संयंत्र को जलाशय से ठंडा पानी मिलता है. यह दक्षिणी ओर स्थित है, जो अब रूसी नियंत्रण में है. अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के प्रमुख राफेल ग्रॉसी ने कहा, “हमारा मौजूदा आंकलन है कि संयंत्र की सुरक्षा को तत्काल कोई खतरा नहीं है.”

ग्रॉसी ने कहा, “यह जरूरी है कि कूलिंग पोंड को बरकरार रखा जाए, क्योंकि यह शट-डाउन रिएक्टरों को ठंडा करने के लिए पर्याप्त पानी की आपूर्ति करता है. इसकी अखंडता को संभावित रूप से कमजोर करने के लिए कुछ नहीं किया जाना चाहिए.”

रूस ने हमला कर सोवियत कालीन बांध को उड़ाया, यूक्रेन में कई जगह भारी बाढ़


Source link

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पिछले साल रिलीज़ हुयी कुछ बेहतरीन फिल्मे जिनको जरूर देखना चाहिए | Best Movies 2022 Bollywood इस राज्य में क्यों नहीं रिलीज़ हुयी AVTAR 2 QATAR VS ECUADOR : FIFA WORLD CUP 2022 Fifa world cup 2022 Qatar | Teams, Matches , Schedule This halloween hollywood scare you with thses movies